Friday, March 6, 2009

कुछ यूं ही

छंद के बंद आते नहीं हैं मुझे, इसलिये एक कविता नहीं लिख सका
लोग कहते रहे गीत शिल्पी मुझे, शिल्प लेकिन नयाएक रच न सका
फिर भी संतोष है तार-झंकार से जो उमड़ती हुई है बही रागिनी
शब्द की एक नौका बहाते हुए,साथ कुछ दूर तक मैं उसे दे सका

-०-०-०-०-०-०-०-०-०-

बोझ उसका है कांधे पे भारी बहुत, जो धरोहर हमें दी है वरदाई ने
और रसखान की वह अमानत जिसे, बांसुरी में पिरोया था कन्हाई ने
हमको खुसरो के पगचिन्ह का अनुसरण नित्य करना है इतना पता है हमें
और लिखने हैं फिर से वही गीत कुछ, जिनको सावन में गाया है पुरवाई ने

-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-

लेखनी किन्तु अक्षम हुई है लगा शब्द से जोड़ पाती है नाता नहीं
मन पखेरु चला आज फिर उड़ कहीं, गीत कोई मगर गुनगुनाता नहीं
जो न संप्रेष्य होता स्वरों से कभी भाव, अभिव्यक्तियों के लिये प्रश्न है
भावनाओं का निर्झर उमड़ता तो है, धमनियों में मगर झनझनाता नहीं

-०-०-०-०-०-०-०-०

कांपते हैं अधर, थरथराती नजर, कंठ में कुछ अटकता हुआ सा लगे
और सीने की गहराईयों में कोई दर्द सहसा उमड़त हुआ सा लगे
चीन्ह पाने की असफ़ल हुईं कोशिशें, कोई रिश्ता नहीं अक्षरों से जुड़े
मात्रा की छुड़ा उंगलियां चल दिया,शब्द मेरा भटकता हुआ सा लगे

6 comments:

Shar said...

:(
Timir daaran Mihir darso! --Nirala

अंशुमाली रस्तोगी said...

हमें आपकी कविता पसंद आई।

kumar Dheeraj said...

बहुत बढ़िया कविता लिखी है आपने । कविता को निराले अंदाज में लिखा गया है । हर भाग बढ़िया है शुक्रिया

राज भाटिय़ा said...

बहुत ही सुंदर
धन्यवाद

Dr. Amar Jyoti said...

हमेशा की तरह बेहतरीन भाव और शिल्प। पर इतनी हताशा?

सतीश सक्सेना said...

डॉ अमरज्योति से सहमत हूँ भाई जी !